E-mail : vasudeomangal@gmail.com 

ब्यावर इतिहास के झरोखे से.......

✍वासुदेव मंगल की कलम से.......
छायाकार - प्रवीण मंगल (मंगल फोटो स्टुडियो, ब्यावर)

 

23 मई 2023 को जयपुर की महारानी गायत्री देवी के 105वें जन्म दिन पर खास पेशकष
------------------------------------------
प्रस्तुतकर्ता : वासुदेव मंगल
1. 23 मई 1919 को गायत्री देवी का जन्म लंदन में हुआ था। बेल बॉटम और फ्रेंच शिफॉन की साड़ी, गले में मोतियों की माला पहनती थी।
2. संवेदनशील इन्सान के साथ एक बेहतरीन राजनीतिज्ञ थी।
3. आमेर, हवा महल उनके बिना बेजान इमारतें थी।
4. गायत्री देवी अक्सर शिकार पर भी जाया करती थी।
5. दिलकश अन्दाज, शाही ठाठ, आधुनिक लाफ स्टाईल थी।
6. गायत्री देवी के पास था खुद का हवाई जहाज।
7. भारत में इम्पोर्ट की पहली मर्सिडीज बेंज W126 और 500 SEL
8. लग्जरी लाईफ के साथ जनता की सेवा का जज्बा।
9. गायत्री देवी एक रूहानी शख्शियत।
10. दुनियां की 10 सुन्दर महिलाओं में शामिल रही।
11. 18 वर्ष की उम्र में सवाई मानसिंह द्वितीय के साथ जयपुर राजघराने में विवाह हुआ।
12. गायत्री देवी का निशाना भी कमाल का था।
13. अच्छी घुड़सवार होने के साथ एक पोलो खिलाड़ी।
14. खुले बाल और साड़ी में आँचल को सम्भालना।
15. गायत्री देवी राजसमंद जिले की सांसद दिया कुमारी की दादी है।

दुनिया की खूबसूरत महिलाओं में से एक जयपुर की पूर्व महारानी गायत्री देवी का जन्म 23 मई 1919 को लंदन में हुआ था।
गायत्री देवी को दुनिया की दस सबसे खूबसूरत महिलाओं की लिस्ट में शुमार कर चुकी है। गायत्री देवी के पिता कूच बिहार के राजा थे और उनकी मां इंद्रा राजे बरोड़ा की मराठा राजकुमारी थीं। गायत्री देवी की पढ़ाई शांति निकेतन और स्विट्जरलैंड में हुई थी। बचपन से ही उन्हें खेलकूद का काफी शौक था।
गायत्री देवी एक शानदार महल में पली बढ़ी थीं और उनके महल में करीब 500 नौकर काम करते थे। गायत्री देवी के दोस्तों और परिवार के बीच उनका आयशा नाम भी काफी फेमस था। गायत्री देवी बहुत अच्छी पोलो प्लेयर थीं। इसके साथ ही उन्हे कारों और शिकार का भी शौक था। गायत्री देवी ने जब पहली बार चीते का शिकार किया था तब उनकी उम्र 12 साल थी।
गायत्री देवी ने ही पहली मर्सिडीज बेंज W126 और 500 SEL भारत इम्पोर्ट करवाई थी। बाद में वो कार मलेशिया भेज दी गई थी। इतना ही नहीं उनके पास बहुत सी रॉल्स रॉयस और एक एयर क्राफ्ट भी था। गायत्री देवी की शादी जयपुर के राजा मानसिंह से हुई थी। वो जयपुर की तीसरी महारानी थीं। वो मानसिंह से पहली बार पोलो ग्राउंड में मिली थीं। शादी के समय गायत्री देवी की उम्र 21 साल थी।
अपने समय में गायत्री देवी के खूबसूरती के चर्चे दूर-दूर तक थे।
गायत्री देवी का ड्रेसिंग सेंस खास था। उन्होंने बेल बॉटम और फ्रेंच शिफॉन की साड़ी को अलग अंदाज में पहनने का फैशन ट्रेंड में लाया।
15 अक्टूबर 1949 को गायत्री देवी ने एक बेटे को जन्म दिया, जिसका नाम जगत सिंह रखा गया। शाही अंदाज में जीने वालीं गायत्री देवी की जिंदगी में बुरे समय की शुरुआत हुई 29 जून 1970 को, जब 57 साल की उम्र में उनके पति का देहांत हो गया। इसके बाद वो काफी दुखी रहने लगी थीं। उनके दुखों का अंत यहीं नहीं हुआ। साल 1997 में लंदन में उनके बेटे की मौत हो गई जिसके बाद तो गायत्री देवी बिल्कुल अकेली हो गईं।
29 जुलाई 2009 को गायत्री देवी ने 90 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उनकी अंतिम यात्रा में देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया से लोग आए थे।
इतिहासविज्ञ एवं लेखक : वासुदेव मंगल
CAIIB (1975) - Retd. Banker
Follow me on Twitter - https://twitter.com/@vasudeomangal
Facebook Page- https://www.facebook.com/vasudeo.mangal
Blog- https://vasudeomangal.blogspot.com

E mail : praveemangal2012@gmail.com 

Copyright 2002 beawarhistory.com All Rights Reserved